होम साइटमैप संपर्क करें English 
छात्रवृत्ति योजना
     

सांस्‍कृतिक प्रतिभा खोज छात्रवृत्ति योजना का उद्देश्‍य प्रतिभावान बालक/बालिकाओं को विभिन्‍न कलात्‍मक क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा विकसित करने के लिए सुविधाएं उपलब्‍ध कराना है । इस छात्रवृत्ति की पात्रता श्रेणी में वे बच्‍चे आते हैं, जिनकी आयु निर्धारित जन्‍म तिथियों के अनुसार 10 से 14 वर्ष के बीच है और जो मान्‍यता प्राप्‍त विद्यालयों में पढ़ रहें, अथवा पारम्‍परिक कला शैलियों पर जीवन यापन करने वाले परिवारों से सम्‍बंधित हैं ।

वर्ष 1982 में सीसीआरटी ने संस्‍कृति मंत्रालय भारत सरकार से प्राप्‍त कर, सांस्‍कृतिक प्रतिभा खोज छात्रवृत्ति योजना संचालित करनी आरम्‍भ की, जिसमें देश के सभी भागों से कला और शिल्‍पों से जुड़े 100 छात्रों की पहचान की गई और उन्‍हें छात्रवृत्ति दी गई । देश की विशालता एवं प्रतिभा की उपलब्‍धता को देखते हुए वर्ष 1984 से छात्रवृत्ति की संख्‍या 100 से बढ़ाकर 300 प्रतिवर्ष कर दी गई ।

वर्तमान में सीसीआरटी प्रत्‍येक वर्ष 620 नई छात्रवृत्तियां प्रदान कर रहा है जिसमें 100 छात्रवृत्तियां जनजातीय संस्‍कृति के लिए आरक्षित हैं (जिनके पास सक्षम अधिकारी द्वारा वैध अनुसूचित जनजाति होने का प्रमाण-पत्र है) तथा 125 छात्रवृत्तियां उन परिवारों के बच्‍चों के लिए आरक्षित है जो पारम्‍परिक निष्‍पादन एवं दृश्‍यकलाओं आदि में प्रयासरत है और 20 छात्रवृत्तियां अलग-अलग रूपों में विकलांग बच्‍चों के लिए आरक्षित हैं । शेष 375 छात्रवृत्तियां सामान्‍य छात्रवृत्तियां मानी जाएगी ।

                  
           
 

चयन का आधार -

इस योजना के अंतर्गत दी जाने वाली छात्रवृत्ति, आरंभ में केवल दो वर्षों के लिए दी जाती है तथा विश्‍वविद्यालय में शिक्षा की पहली डिग्री की अवस्‍था पूरी होने अथवा 20 वर्ष की आयु तक (जो भी पहले हो) द्विवर्षीय आधार पर दूसरे वर्ष नवीनीकृत की जाती है, बशर्ते छात्रवृत्ति पाने वाले धारक की प्रगति संतोषजनक हो ।

 

 

प्रति रिपोर्ट तथा सीसीआरटी छात्रवृत्ति धारकों के लिए भुगतान प्राप्ति का प्रपत्र